Advertisement

खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल गिरफ्तार, 23 फरवरी को कब्जाया था अजनाला पुलिस थाना; रविवार तक के लिए इंटरनेट सेवा बंद

खालिस्तान समर्थक अमृतपाल व 6 साथियों को शनिवार दोपहर करीब एक बजे पंजाब पुलिस ने जालंधर के मेहतपुर...
खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल गिरफ्तार, 23 फरवरी को कब्जाया था अजनाला पुलिस थाना; रविवार तक के लिए इंटरनेट सेवा बंद

खालिस्तान समर्थक अमृतपाल व 6 साथियों को शनिवार दोपहर करीब एक बजे पंजाब पुलिस ने जालंधर के मेहतपुर इलाके से गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी अजनाला थाने पर हमला और कब्जा मामले से  जुड़ी है।पंजाब पुलिस ने प्रदेश के कई जिलों में इंटरनेट सेवा रविवार तक के लिए निलंबित कर दी है। बताया जा रहा है कि सुरक्षा कारणों से पुलिस ने यह फैसला लिया है।

दरअसल, शनिवार को अमृतपाल जालंधर से मोगा की ओर जा रहा था जैस की पुलिस ने उसका व उसके साथियों का पीछा किया वह खुद गाड़ी में बैठकर लिंक रोड से होते हुए भाग गया। पुलिस की दर्जनों गाड़ियां उसके पीछे लग गईं। खालिस्तान समर्थक संगठन 'वारिस पंजाब दे' के प्रमुख अमृतपाल के खिलाफ 3 मामले दर्ज हैं जिनमें से दो मामले अमृतसर जिले के अजनाला थाने में हैं। अपने करीबी दोस्त लवप्रीत तूफान की गिरफ्तारी से नाराज होकर अमृतपाल ने 23 फरवरी को समर्थकों के साथ मिलकर अजनाला थाने पर हमला कर दिया था। इस मामले में अभी तक अमृतपाल व उसके साथियों पर अभी तक कोई मामला दर्ज न किए जाने पर सरकार और पंजाब पुलिस की काफी किरकिरी हो रही थी।

 शनिवार को अमृतपाल ने जालंधर-मोगा नेशनल हाईवे पर शाहकोट-मलसियां इलाके और बठिंडा जिले के रामपुरा फूल में कार्यक्रम रखे थे। शाहकोट-मलसियां इलाके में उसके प्रोग्राम के लिए समर्थक सुबह से जुटने लगे थे। इस प्रोग्राम से पहले ही जालंधर और मोगा पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन में गुपचुप तरीके से अमृतपाल को गिरफ्तार करने की रणनीति बना ली थी। इसके लिए आसपास के कई जिलों से रातोंरात पुलिस फोर्स बुला ली गई। जालंधर-मोगा नेशनल हाईवे पर भी सुबह से ही भारी नाकेबंदी कर दी गई।

शनिवार दोपहर करीब एक बजे जैसे ही अमृतपाल का काफिला जालंधर के मेहतपुर कस्बे के नजदीक पहुंचा, पुलिस ने घेरा डाल लिया। काफिले में सबसे आगे चल रही 2 गाड़ियों में सवार 6 लोगों को पकड़ लिया गया। अमृतपाल की मर्सिडीज कार काफिले में तीसरे नंबर पर थी। पुलिस को देखकर उसका ड्राइवर गाड़ी लिंक रोड की तरफ मोड़कर भगा ले गया। जालंधर और मोगा पुलिस उसके पीछे लग गई।

पुलिस को गिरफ्तार किए गए अमृतपाल के 6 साथियों से कई हथियार मिले हैं। इन्हें जालंधर के मैहतपुर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया। अमृतपाल का कार में बैठकर भागते हुए का एक वीडियो भी सामने आया। इस वीडियो में अमृतपाल गाड़ी की अगली सीट पर बैठा नजर आ रहा है और अपने समर्थकों से इकट्‌ठा होने की अपील कर रहा है। गाड़ी में मौजूद अमृतपाल के समर्थक यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि पुलिस उनके पीछे लगी है।

अमृतपाल के करीबी भगवंत सिंह उर्फ बाजेके को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मोगा के रहने वाले भगवंत सिंह को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वह अपने खेतों में पशुओं के लिए चारा काट रहा था। पांच गाड़ियों में पहुंचे पुलिसवालों ने खेतों में घेरा डालकर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को देखते ही भगवंत सिंह सोशल मीडिया पर लाइव हो गया और अपनी तरफ बढ़ रहे पुलिसवालों को दिखाने लगा।

भगवंत सिंह के खिलाफ हथियारों के साथ सोशल मीडिया पर फोटो डालने को लेकर केस दर्ज हो चुका है। वह पंजाब सरकार के खिलाफ और अमृतपाल के हक में वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डालता रहा है।

23 फरवरी को खालिस्तान समर्थक संगठन 'वारिस पंजाब दे' से जुड़े हजारों लोगों ने अमृतसर के अजनाला थाने पर हमला कर दिया था। इनके हाथों में बंदूकें और तलवारें थीं। ये लोग संगठन के प्रमुख अमृतपाल सिंह के करीबी लवप्रीत सिंह तूफान की गिरफ्तारी का विरोध कर रहे थे। हमले के बाद दबाव में आई पंजाब पुलिस ने आरोपी को रिहा करने का ऐलान कर दिया था।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से