Advertisement

अग्निपथ योजना देश के युवाओं के साथ घोर अन्याय: राष्ट्रपति को लिखे पत्र में खड़गे

कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को पत्र लिखकर अग्निपथ...
अग्निपथ योजना देश के युवाओं के साथ घोर अन्याय: राष्ट्रपति को लिखे पत्र में खड़गे

कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को पत्र लिखकर अग्निपथ योजना के कारण सशस्त्र बलों में नियमित रोजगार चाहने वाले देश के युवाओं के साथ हुए "घोर अन्याय" को उजागर किया और उनसे उनके लिए न्याय सुनिश्चित करने का आग्रह किया।

खड़गे ने राष्ट्रपति को लिखे अपने पत्र में कहा, सशस्त्र बलों में नियमित भर्ती प्रक्रिया समाप्त होने से लगभग 2 लाख युवा पुरुषों और महिलाओं का भविष्य अनिश्चित हो गया है। राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर भी हैं।

खड़गे ने दावा किया कि इन युवाओं ने अपने सपने को पूरा करने में वर्षों बिताए और "परिणामस्वरूप हताशा और निराशा के कारण कई लोगों की आत्महत्या तक की रिपोर्ट सामने आई है।"

उन्होंने कहा, "हमारे युवाओं को इस तरह से पीड़ित होने की अनुमति नहीं दी जा सकती। मैं आपसे यह सुनिश्चित करने की अपील करता हूं कि न्याय और न्याय हो।"

जून 2022 में, सरकार ने तीनों सेवाओं की आयु प्रोफ़ाइल को कम करने के उद्देश्य से सशस्त्र बलों में कर्मियों को अल्पकालिक शामिल करने के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू की। इसमें साढ़े 17 साल से 21 साल की आयु वर्ग के युवाओं को चार साल के लिए भर्ती करने का प्रावधान है, जिसमें से 25 प्रतिशत को 15 और वर्षों तक बनाए रखने का प्रावधान है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से
Advertisement
Advertisement
Advertisement