Advertisement

किसान आंदोलन: गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड हटने पर बोले राकेश टिकैत, 'फसल बेचने संसद जाएंगे'

टिकरी के बाद दिल्ली पुलिस ने आज शुक्रवार को गाजीपुर बॉर्डर से भी बैरिकेड हटाने शुरू कर दिए हैं। इस पर...
किसान आंदोलन: गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड हटने पर बोले राकेश टिकैत, 'फसल बेचने संसद जाएंगे'

टिकरी के बाद दिल्ली पुलिस ने आज शुक्रवार को गाजीपुर बॉर्डर से भी बैरिकेड हटाने शुरू कर दिए हैं। इस पर किसान नेता राकेश टिकैत का बयान आया है। आजतक की खबर के मुताबिक, टिकैत ने बैरिकेडिंग हटने को सही बताया और कहा कि वह किसान संसद में जाकर फसल बेचेंगे।

बता दें कि आज दिल्ली की सीमा के नजदीक गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के धरना स्थल पर लगे बैरिकेडिंग को पुलिस ने हटाया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, 'सरकार की तरफ से आदेश है इसलिए हम बैरिकेडिंग हटाकर रास्ता खोल रहे हैं।' बैरिकेड हटने के बाद गाजियाबाद से दिल्ली आने वाला रास्ता खुल सकता है, फिलहाल इस सड़क पर कृषि कानूनों की वापसी को लेकर महीनों से किसानों का प्रदर्शन जारी है।

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों को बैठे हुए 11 महीने हो गए। ठीक है, बैरिकेडिंग हटनी चाहिए। इस पर संयुक्त मोर्चा से बात होगी। जब रास्ते खुल जाएंगे तो किसान दिल्ली जाएंगे। वहीं संसद में फसल बेचेंगे। धान से भरे हुए ट्रैक्टर दिल्ली जाएंगे। देखेंगे कहां रोका जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा था कि किसान अपनी फसल कहीं पर भी बेच सकता है। रास्ते खुलेंगे तो हम भी अपनी फसल बेचने पार्लियामेंट में जाएंगे।

टिकैत ने कहा कि फिलहाल पुलिस अधिकारियों से उनकी कोई बात नहीं हुई है। जिस दिन ट्रैक्टर निकलने का रास्ता हो जाएगा, वह ट्रैक्टर से फसल बेचने दिल्ली जाएंगे। टिकैत बोले कि पीएम मोदी ने कहा है कि किसान कहीं भी अपनी फसल बेच सकते हैं। हम फसल बेचने दिल्ली जाएंगे।

वहीं ईस्ट दिल्ली की डीसीपी प्रियंका कश्यप ने कहा, 'बैरिकेडिंग को हटा रहे हैं। एक घंटे के अंदर हम इसे हटा देंगे। हमें आदेश आए हैं इसलिए हम बैरिकेडिंग हटा रहे हैं। अभी हाईवे पर लगी बैरिकेडिंग को हटाया जा रहा है।'

पुलिस बैरिकेड क्यों लगाए गए थे, इसपर दिल्ली के पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने कहा कि यह बैरिकेड नोएडा में लॉ एंड ऑर्डर की सिचुएशन को देखते हुए लगाए गए थे, अब किसानों से बातचीत की जा रही है और जल्द ही उम्मीद की जाती है कि यह रास्ता आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा।

बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई हुई थी। कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़कों को ब्लॉक करने पर नाराजगी जताई थी। कोर्ट ने कहा था कि लंबे वक्त तक ऐसे किसी रास्ते को बंद नहीं किया जा सकता, क्योंकि इससे आम लोगों को दिक्कत होती है। इसके बाद गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत ने अपने कुछ टेंट हटाकर यह दिखाने की कोशिश की थी कि रास्ता किसानों ने नहीं बल्कि पुलिस ने बैरिकेड लगाकर बंद किया हुआ है। टिकैत के उसी आरोप के बाद अब पुलिस ने पुलिस ने पहले टिकरी और अब गाजीपुर से बैरिकेड हटाने शुरू किए हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से