Advertisement

पेटीएम को लेकर संशय बरकरार, आरबीआई की कार्रवाई के बीच CAIT ने व्यापारियों को दी यह सलाह

पेटीएम वॉलेट और बैंक संचालन पर आरबीआई के प्रतिबंधों के बाद व्यापारियों के संगठन सीएआईटी ने रविवार को...
पेटीएम को लेकर संशय बरकरार, आरबीआई की कार्रवाई के बीच CAIT ने व्यापारियों को दी यह सलाह

पेटीएम वॉलेट और बैंक संचालन पर आरबीआई के प्रतिबंधों के बाद व्यापारियों के संगठन सीएआईटी ने रविवार को व्यापारियों को व्यापार से संबंधित लेनदेन के लिए पेटीएम से अन्य भुगतान विकल्पों पर स्विच करने के लिए एक चेतावनी जारी की।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने कहा, "भारतीय रिजर्व बैंक ने कुछ प्रतिबंध लगाए हैं, जिससे CAIT को यह सिफारिश करने के लिए प्रेरित किया गया है कि उपयोगकर्ता अपने धन की सुरक्षा के लिए सक्रिय कदम उठाएं और निर्बाध वित्तीय लेनदेन सुनिश्चित करें। बड़ी संख्या में छोटे व्यापारी, विक्रेता, फेरीवाले और महिलाएं पेटीएम के माध्यम से भुगतान कर रहे हैं और आरबीआई के माध्यम से भुगतान कर रहे हैं। पेटीएम पर प्रतिबंध से इन लोगों को वित्तीय व्यवधान हो सकता है।"

सूत्रों के अनुसार, मनी लॉन्ड्रिंग की चिंताओं और लोकप्रिय वॉलेट पेटीएम और इसकी कम-ज्ञात बैंकिंग शाखा के बीच सैकड़ों करोड़ रुपये के संदिग्ध लेनदेन के कारण भारतीय रिजर्व बैंक को टेक पोस्टर बॉय विजय शेखर शर्मा द्वारा संचालित संस्थाओं पर शिकंजा कसना पड़ा।

केंद्रीय बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) को 29 फरवरी के बाद सड़क टोल का भुगतान करने के लिए अतिरिक्त जमा लेने, क्रेडिट लेनदेन करने और किसी भी ग्राहक खाते, प्रीपेड उपकरणों, वॉलेट और कार्ड पर टॉप-अप करने सहित अपने अधिकांश व्यवसाय को रोकने का आदेश दिया है। 

इसका मतलब है कि ग्राहक 29 फरवरी तक अपनी मौजूदा जमा राशि का उपयोग कर सकते हैं और अपने वॉलेट में संग्रहीत पैसे से सेवाओं के लिए भुगतान कर सकते हैं। और यदि आरबीआई नरम नहीं पड़ता है, तो पेटीएम वॉलेट के लिए टॉप-अप बंद हो जाएगा और इसके माध्यम से लेनदेन नहीं किया जा सकेगा।

सीएआईटी के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि आरबीआई द्वारा पेटीएम पर लगाए गए हालिया प्रतिबंधों ने मंच द्वारा प्रदान की जाने वाली वित्तीय सेवाओं की सुरक्षा और निरंतरता के बारे में चिंताएं बढ़ा दी हैं।

उन्होंने इस सलाह की तात्कालिकता पर जोर दिया और व्यापारियों से अपने वित्तीय संचालन पर किसी भी संभावित प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए तुरंत कार्य करने और सूचित निर्णय लेने का आग्रह किया।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से