Advertisement

राजस्थान: दलितों पर हो रहे अत्याचार से नाराज कांग्रेस विधायक, सीएम गहलोत को भेजा इस्तीफा

दलितों के खिलाफ कथित अत्याचार से नाराज कांग्रेस विधायक पाना चंद मेघवाल ने सोमवार को राजस्थान के...
राजस्थान: दलितों पर हो रहे अत्याचार से नाराज कांग्रेस विधायक, सीएम गहलोत को भेजा इस्तीफा

दलितों के खिलाफ कथित अत्याचार से नाराज कांग्रेस विधायक पाना चंद मेघवाल ने सोमवार को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अपना इस्तीफा भेज दिया और कहा कि अगर वह अपनी समुदाय रक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें विधायक बने रहने का अधिकार नहीं है।

उनका यह बयान नौ साल के दलित लड़के की मौत के दो दिन बाद आता है, जिसे जालोर में पीने के पानी के बर्तन को छूने के लिए उसके स्कूल शिक्षक द्वारा कथित तौर पर पीटा गया था।

बारां-अटरू विधायक मेघवाल ने अपने त्याग पत्र में कहा है, "जब हम अपने समुदाय के अधिकारों की रक्षा करने में विफल होते हैं ... हमें पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। अपनी आंतरिक आवाज सुनकर, मैं विधायक पद से इस्तीफा देता हूं ताकि मैं बिना किसी पद के समुदाय की सेवा कर सकूं।" 

उन्होंने कहा कि भले ही देश आजादी के 75 साल का जश्न मना रहा है, लेकिन दलितों और अन्य वंचित वर्गों के खिलाफ अत्याचार जारी है। उन्होंने कहा, "मैं अत्याचारों को देखकर आहत हूं। जिस तरह से मेरे समुदाय को प्रताड़ित किया जा रहा है, मैं अपने दर्द को शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता।"

दलितों को घड़े का पानी पीने, मूंछ रखने या शादी के दौरान घोड़ी की सवारी करने के लिए मारा जा रहा है। न्यायिक प्रक्रिया ठप हो जाती है और केस की फाइलें एक टेबल से दूसरी टेबल पर चली जाती हैं। पिछले कुछ सालों में दलितों पर अत्याचार के मामले तेजी से बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि संविधान द्वारा दलितों को दिए गए अधिकारों की रक्षा करने वाला कोई नहीं है।

मेघवाल ने कहा, "दलितों द्वारा दर्ज किए गए ज्यादातर मामलों में पुलिस अंतिम रिपोर्ट सौंपती है। मैंने कई बार राज्य विधानसभा में ऐसे मामले उठाए हैं लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।"

इस बीच, राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग (आरएसएचआरसी) ने जालोर में दलित लड़के की मौत का स्वत: संज्ञान लिया और जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को नोटिस जारी किया। आरएसएचआरसी ने उन्हें इस मामले पर 26 अगस्त को रिपोर्ट देने को कहा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से
Advertisement
Advertisement
Advertisement