Advertisement

कमलेश के परिजनों को यूपी पुलिस पर भरोसा नहीं, एनआईए जांच की मांग

 कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सूरत के तीन लोगों सहित पांच लोगों को हिरासत...
कमलेश के परिजनों को यूपी पुलिस पर भरोसा नहीं, एनआईए जांच की मांग

 कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सूरत के तीन लोगों सहित पांच लोगों को हिरासत में ले तो लिया है, लेकिन उनके परिवार वाले पुलिस द्वारा की गई इन गिरफ्तारियों पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होनें पुलिस की इस कार्रवाई को जल्दबाजी में उठाया कदम बताया और साथ ही कहा कि उन्हें पुलिस पर भरोसा नहीं है। परिजनों ने प्रदेश सरकार से एनएआईए जांच की मांग की।

अधिकारियों के ही अलग-अलग बयानों ने उलझाया मामला

प्रशासन ने कमलेश तिवारी के परिजनों से नौ बिंदुओं पर समझौता किया है, जिसमें मुख्यमंत्री से मुलाकात, सरकारी नौकरी, आर्थिक मदद और एनआईए जांच समेत लखनऊ में एक आवास शामिल है। हालांकि पूरे मामले में पुलिस की थ्योरी किसी के गले नहीं उतर रही है। अधिकारियों के ही अलग-अलग बयानों ने मामले को काफी उलझा दिया है।

 डीजीपी ने गुजरात से जोड़े तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड में कल अपर मुख्य सचिव गृह ने कहा था कि मामले की जांच निजी रंजिश के आधार पर की जा रही है। जबकि आज डीजीपी ने कहा कि पूरे घटनाक्रम में गुजरात के तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। इसमें यह खुलासा हुआ कि गुजरात के तीनों आरोपियों ने साजिश रची। जिसके बाद यूपी और गुजरात की एटीएस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है। सूरत से गिरफ्तार होने वाले तीनों आरोपियों के नाम मोहसिन शेख, फैजान और राशिद अहमद हैं। साथ ही उत्तर प्रदेश  से मोहम्मद मुफ्ती नईम काजमी और इमाम मौलाना अनवारुल हक को हिरासत में लिया। डीजीपी ने यह भी कहा कि अब तक इस घटना से कोई आतंकी कोण नहीं जुड़ा है।

तिवारी की मां ने सीतापुर के एक भाजपा नेता पर भी हत्या का आरोप

कमलेश तिवारी की मां ने सीतापुर के एक भाजपा नेता पर भी हत्या का आरोप लगाया, लेकिन इस बारे में डीजीपी ने कोई जानकारी होने से मना कर दिया। पुलिस की जांच से कमलेश तिवारी का बेटा संतुष्ट नहीं है। उनका कहना है कि मामले की जांच एनआईए से कराई जाए और किसी बेगुनाह को गिरफ्तार ना किया जाए। कमलेश तिवारी के परिजनों ने कहा कि हमारी तीन मांगें हैं। मुख्यमंत्री यहां आएं, हमें कुछ चाहिए नहीं। कमलेश तिवारी को राष्ट्रीय सम्मान मिले। हमें राज्य सरकार और जिला प्रशासन की जांच पर भरोसा नहीं है। इसलिए मामले की जांच एनआईए से कराई जाए।

बड़ी श्रद्धांजलि सभा होगी

कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर लोगों का गुस्सा शांत नहीं हो रहा है। इस हत्याकांड के विरोध में विशाल विरोध प्रर्दशन की तैयारी की जा रही है। राष्ट्रीय परशुराम स्वाभिमान सेना के प्रदेश अध्यक्ष और भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रदीप मिश्रा ने ‘आउटलुक’ को बताया कि शाम पांच बजे बड़ी संख्या में जीपीओ पर कार्यकर्ता एकत्र होंगे। यहां श्रद्धांजलि सभा होगी और मांगपत्र अधिकारियों को सौंपा जाएगा। उनका कहना है कि ऐसी जानकारी मिली है कि कमलेश तिवारी के बड़े बेटे को सरकारी नौकरी देने का आश्वासन दिया गया है, लेकिन हमारी मांग है कि बेटे को नौकरी ना देकर उनकी पत्नी को नौकरी दी जाए। कैंट विधानसभा सीट पर उपचुनाव हो रहा है और इस सीट पर ब्राह्मण मतदाताओं की संख्या अच्छी खासी है। इसलिए भाजपा ब्राह्मण मतदाताओं को नाराज नहीं करना चाहती। कल शाम कमलेश तिवारी के आवास पर परिजनों से मिलने डिप्टी सीएम दिनेश चंद्र शर्मा भी गए थे, लेकिन परिजनों ने मिलने से इनकार कर दिया था। साथ ही सरकार के खिलाफ समर्थकों ने नारे भी लगाए थे। चूंकि मुख्यमंत्री आज चुनाव प्रचार में महाराष्ट्र में हैं और देर शाम को लौटेंगे। इसलिए आज रात या कल कमलेश तिवारी के परिजनों की मुलाकात मुख्यमंत्री से कराई जाएगी।

ये हैं समझौते के बिंदु:

-मुख्यमंत्री से परिजनों और शुभचिंतकों की मुलाकात

-एसआईटी और एनआईए के द्वारा जांच

-कमलेश तिवारी के परिजनों की सुरक्षा

-कमलेश तिवारी के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के नाते गरिमानुसार उनके परिजनों को आर्थिक सहायता

-कमलेश तिवारी के बड़े बेटे सत्यम तिवारी को सरकारी नौकरी

-कमलेश तिवारी के परिजनों के आवेदन पर आत्मरक्षार्थ शस्त्र लाइसेंस

-सरकारी योजना के तहत परिजनों को लखनऊ के अंदर एक उचित आवास

-समुचित सम्मान के साथ अंतिम संस्कार प्रशासन की उपस्थिति में

-कमलेश तिवारी के परिजनों और शुभचिंतकों की शिकायत पर निष्पक्ष जांच एडीएम और एएसपी की संयुक्त टीम द्वारा दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कठोरतम कार्यवाही की जाएगी।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से
Advertisement
Advertisement
Advertisement