Advertisement

राजीव गांधी के राजनीतिक जीवन का अंत बहुत क्रूर तरीके से हुआ: सोनिया गांधी

कांग्रेस पार्टी की पूर्व प्रमुख सोनिया गांधी ने रविवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती पर...
राजीव गांधी के राजनीतिक जीवन का अंत बहुत क्रूर तरीके से हुआ: सोनिया गांधी

कांग्रेस पार्टी की पूर्व प्रमुख सोनिया गांधी ने रविवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती पर कहा कि उन्होंने (राजीव गांधी ने) अपने छोटे से राजनीतिक करियर में अनगिनत उपलब्धियां हासिल कीं, जिसका अंत बेहद क्रूर तरीके से हुआ।

रविवार को 25वें राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार समारोह को संबोधित करते हुए, सोनिया गांधी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री के राजनीतिक जीवन का अंत बहुत क्रूर तरीके से हुआ, लेकिन उन्होंने महिला सशक्तिकरण सहित हर तरह से भारत की सेवा करते हुए कम समय में अनगिनत उपलब्धियां हासिल कीं।

सोनिया गांधी ने कहा, "वह (राजीव गांधी) देश की विविधता को लेकर संवेदनशील थे। उन्हें देश की सेवा का जितना भी समय मिला, इसमें उन्होंने अनगिनत उपलब्धियां हासिल कीं। वह महिला सशक्तिकरण को लेकर संकल्पित थे। उन्होंने पंचायत और नगर पालिकाओं में महिलाओं के 1/3 आरक्षण के लिए संघर्ष किया।"

"यदि आज, ग्रामीण एवं शहरी निकायों में 15 लाख से अधिक निर्वाचित महिला प्रतिनिधि हैं, तो यह राजीव गांधी की मेहनत और दूरदर्शिता से संभव हुआ।" सोनिया गांधी ने आगे कहा कि तत्कलानी राजीव गांधी सरकार के दौरान ही मतदान करने की उम्र 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष की गई थी।

बता दें कि राजीव गांधी ने अपनी माता और तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद साल 1984 में कांग्रेस की ज़िम्मेदारी उठाई थी। अक्टूबर 1984 में पदभार ग्रहण करने पर वह 40 वर्ष की आयु में भारत के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने। उन्होंने 2 दिसंबर 1989 तक भारत के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया।

20 अगस्त 1944 को जन्मे राजीव गांधी की 21 मई 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में एक चुनावी रैली के दौरान लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई) के आत्मघाती हमलावर ने हत्या कर दी थी।

पूर्व उपराष्ट्रपति एम हामिद अंसारी ने रविवार को राजस्थान में महिलाओं के लिए आवासीय संस्थान वनस्थली विद्यापीठ को 2020-21 के लिए 25वें राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार से सम्मानित किया। यह पुरस्कार कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की मौजूदगी में संस्था के सिद्धार्थ शास्त्री को सौंपा गया।

हालांकि, सोनिया गांधी ने आगे कहा कि सांप्रदायिक सद्भाव, शांति और राष्ट्रीय एकता के आदर्श आज के समय में और भी महत्वपूर्ण हो गए हैं, जब ताकतें नफ़रत, बंटवारे, कट्टरता और पूर्वाग्रह की राजनीति को बढ़ावा दे रही हैं। उन्होंने कहा, "उन्हें सत्ता पक्ष का भी समर्थन मिल रहा है।"

सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और पार्टी के अन्य नेता रविवार को दिल्ली में 25वें राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार कार्यक्रम में शामिल हुए। पूर्व पीएम की 79वीं जयंती के मौके पर दिल्ली के जवाहर भवन में कार्यक्रम आयोजित किया गया।

सोनिया गांधी ने आगे कहा कि राजीव गांधी भारत में मौजूद बहुरूपता की सुरक्षा और संरक्षण के समर्थक थे। उन्होंने कहा, "वह इस तथ्य के प्रति बहुत संवेदनशील थे कि धार्मिक, जातीय, भाषाओं और संस्कृति का जश्न मनाकर ही भारत की एकता को मजबूत किया जा सकता है।"

इससे पहले आज, सोनिया गांधी ने दिल्ली में 'वीर भूमि' पर पूर्व प्रधान मंत्री को उनकी 79वीं जयंती पर पुष्पांजलि अर्पित की। सोनिया गांधी के तुरंत बाद पहुंचे कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी आज सुबह पूर्व प्रधानमंत्री को उनके स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से