Advertisement

गिरफ्तार होने पर केजरीवाल को इस्तीफा देना चाहिए या नहीं- 'आप' लेगी लोगों की राय

आम आदमी पार्टी (आप) की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने कहा कि पार्टी लोगों से इस बारे में प्रतिक्रिया...
गिरफ्तार होने पर केजरीवाल को इस्तीफा देना चाहिए या नहीं- 'आप' लेगी लोगों की राय

आम आदमी पार्टी (आप) की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने कहा कि पार्टी लोगों से इस बारे में प्रतिक्रिया लेने के लिए एक से 20 दिसंबर तक हस्ताक्षर अभियान चलाएगी कि अगर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) साजिश के तहत अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार कराती है तो मुख्यमंत्री को पद से इस्तीफा देना चाहिए या नहीं।

पार्टी के सांसद राघव चड्ढा के साथ संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए राय ने आरोप लगाया कि भाजपा ने आप को खत्म करने की उम्मीद से केजरीवाल को ‘फर्जी’ शराब घोटाला मामले में गिरफ्तार कराने की साजिश रची है।

भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने पलटवार करते हुए कहा कि जब लोग आप कार्यकर्ताओं से दिल्ली सरकार के भ्रष्टाचार और विफलता के बारे में पूछें तो उनके सवालों का जवाब देने के लिए केजरीवाल को अपने कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करना चाहिए।

उन्होंने कहा, “आप नेता हस्ताक्षर अभियान चलाने के लिए घर-घर जाने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन जब वे लोगों के पास जाएं तो उन्हें लोगों के इन सवालों का जवाब देने के लिए तैयार रहना चाहिए कि पार्टी के नेताओं ने शराब घोटाला, जल बोर्ड घोटाला, टैंकर घोटाला, पैनिक बटन घोटाला, स्कूल कक्ष घोटाला कैसे किया। साथ ही, उन्होंने नागरिक सुरक्षा स्वयंसेवकों, अतिथि शिक्षकों, पैरा मेडिकल स्टाफ जैसे संविदा कर्मियों की आजीविका के साथ कैसे खिलवाड़ किया है।”

राय ने कहा कि शुक्रवार से ‘मैं भी केजरीवाल’ अभियान के तहत, ‘आप’ के कार्यकर्ता शहर भर के सभी 2,600 मतदान केंद्रों पर लोगों के हस्ताक्षर लेने के लिए पर्चे लेकर जाएंगे और इस बारे में उनकी राय मांगी जाएगी कि गिरफ्तार होने पर क्या केजरीवाल को दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए?

राय ने कहा कि केजरीवाल ने ‘आप’ विधायकों और पार्षदों से मुलाकात कर इस मुद्दे पर उनकी राय मांगी और इस बात पर आम सहमति थी कि उन्हें इस्तीफा नहीं देना चाहिए और जेल से सरकार चलानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि 21 दिसंबर से 24 दिसंबर तक ‘आप’ शहर के हर वार्ड में ‘जन संवाद’ आयोजित करेगी, जिसमें लोगों से कथित शराब घोटाले के साथ-साथ केजरीवाल को गिरफ्तार कराने की भाजपा की ‘साजिश’ पर चर्चा की जाएगी। इसमें उनकी इस बारे में राय ली जाएगी कि अगर केजरीवाल को गिरफ्तार किया जाता है तो क्या उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। चड्ढा ने भाजपा की तुलना पौराणिक पात्र ‘कंस’ से की और आरोप लगाया कि वह आप को खत्म करना चाहती है और पूरे देश में केजरीवाल को अपनी एकमात्र चुनौती के रूप में देखती है।

चड्ढा ने आरोप लगाया, “जिस तरह कंस को पता था कि भगवान कृष्ण उसका अंत करेंगे, उसी तरह भाजपा भी अच्छी तरह से जानती है कि उसकी गंदी राजनीति का अंत केजरीवाल करेंगे। कंस ने भगवान कृष्ण को रोकने का हर संभव प्रयास किया। इसी तरह, भाजपा आप को कमजोर करने और खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।’’

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से
Advertisement
Advertisement
Advertisement