Advertisement

दो कप्तानों की अजब दास्तां

क्रिकेट की इंडियन प्रीमियर लीग का वर्तमान सत्र कुछ खास है। दो पुरानी टीमों चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्‍थान रॉयल्स को विवादों के चलते लीग से हटा दिया गया और दो नई टीमें राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स और गुजरात लायंस लीग में शामिल हुईं।
दो कप्तानों की अजब दास्तां

इनमें से एक टीम पुणे की कमान भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के हाथ में आई जबकि दूसरे की कमान भारतीय टीम में धोनी के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी माने जाने वाले सुरेश रैना के हाथों में थमाई गई। प्रशंसकों को उम्मीद थी कि धोनी पुणे की टीम को कम से कम आखिरी चार में तो पहुंचा ही देंगे मगर इस सत्र में धोनी वह कमाल नहीं दिखा पाए। दूसरी ओर रैना ने अपनी टीम को आखिरी चार की दौड़ में अंक तालिका में सबसे ऊपर पहुंचा दिया। दरअसल 14 मैचों में रैना की टीम सिर्फ 5 हारी जबकि धोनी की टीम सिर्फ 5 मैच जीत पाई और 9 में उसे हार मिली। ऐसे में सवाल उठने लगे हैं कि क्या यह धोनी के करिश्मे का अंत है।

दरअसल सिर्फ रैना ही नहीं धोनी की कप्तानी में खेल रहे भारतीय क्रिकेट के सबसे चमकते सितारे विराट कोहली ने अपनी कप्तानी में बेंगलुरू की टीम को आखिरी चार की दहलीज तक पहुंचा दिया है। दअरसल आठ टीमों में से मुंबई, पुणे और पंजाब की टीमें पहले ही इस दौड़ से बाहर हो चुकी हैं और अब बेंगलूर, कोलकाता और दिल्ली की टीमों के बीच आखिरी चार की दौड़ में हैं। इन तीनों की टीमों के 14-14 अंक हैं और रविवार को दिल्ली और बेंगलुरू और कोलकाता और हैदराबाद का मैच होना है। इस मैच में अगर बेंगलुरू जीतती है तो वह सीधे आखिरी चार में पहुंच जाएगी और अगर हार जाती है तो उसका भविष्य कोलकाता और हैदराबाद के विजेता पर टिका होगा। अगर हैदराबाद हारी तो बेंगलुरू सीधे बाहर हो जाएगी और अगर कोलकाता की टीम हारी तो रन औसत के आधार पर फैसला होगा। यही स्थिति दिल्ली और कोलकाता की भी है। जीत उन्हें सीधे अंतिम चार में ले जाएगी और हार की स्थिति में दूसरी टीम की हार जीत देखनी होगी।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से