Advertisement

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में 24 घंटे में नौ नवजात शिशुओं सहित दस बच्चों की मौत, सरकार ने की जांच शुरू

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में 24 घंटे के भीतर नौ नवजात शिशुओं और एक दो साल के बच्चे की मौत...
पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में 24 घंटे में नौ नवजात शिशुओं सहित दस बच्चों की मौत, सरकार ने की जांच शुरू

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में 24 घंटे के भीतर नौ नवजात शिशुओं और एक दो साल के बच्चे की मौत हो गई, जिससे आसपास के इलाके में दहशत फैल गई और विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, राज्य सरकार ने मौतों में इस खतरनाक वृद्धि के पीछे का कारण जानने के लिए जांच शुरू कर दी है।

अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि तीन शिशुओं का जन्म मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में हुआ, जबकि अन्य को गंभीर स्थिति में उपखंडों से रेफर किया गया था। साथ ही, डॉक्टरों ने खुलासा किया कि बच्चे का न्यूरोलॉजिकल समस्याओं के लिए अस्पताल में इलाज चल रहा था।संकट के बीच, अस्पताल में भर्ती अन्य बच्चों के माता-पिता अपनी संतानों की सुरक्षा के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की है।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अंदरूनी सूत्रों ने पिछले छह सप्ताह से जंगीपुर उप-जिला अस्पताल के बच्चों के विभाग में चल रहे नवीकरण कार्य का खुलासा किया। इसके कारण जंगीपुर उप-मंडल से सभी बच्चों को बहरामपुर में पुनर्निर्देशित किया गया है। इसके अलावा, अस्पताल के अधिकारियों ने बिगड़ती शारीरिक स्थिति के बावजूद डोमकल, लालबाग उप-विभागीय अस्पताल से नवजात शिशुओं को बहरामपुर रेफर करने पर रोक लगा दी, जिसके बाद पश्चिम बंगाल स्वास्थ्य विभाग को एक रिपोर्ट सौंपी गई।

मुर्शिदाबाद अस्पताल के सूत्रों ने खुलासा किया कि पिछले 30 दिनों में कुल 380 नवजात शिशुओं को अस्पताल भेजा गया था। अस्पताल अधीक्षक ने टिप्पणी की, "10 मृत शिशुओं में से सात गंभीर स्थिति में दूर-दराज के इलाकों से आए थे, जिसके परिणामस्वरूप इलाज के लिए सुनहरा समय बर्बाद हो गया। शेष तीन का जन्म अस्पताल में हुआ था, जिनमें से एक मृत पैदा हुआ था और दो को जन्म के समय बच्चे को कम वजन की श्रेणी में रखा गया था।"

डॉक्टरों ने इस बात पर जोर दिया कि अधिकांश शिशुओं की मां कुपोषित थीं और जन्म के समय उनका वजन बेहद कम था, जिससे उनके जीवित रहने की संभावना काफी कम हो गई थी। उन्होंने स्पष्ट किया कि क्षेत्र में किसी विशिष्ट संक्रमण के फैलने या अचानक चिकित्सा संबंधी समस्याओं की कोई रिपोर्ट नहीं है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से