Advertisement

उत्तरकाशी सुरंग रेस्क्यू: बचाए गए 41 श्रमिकों को आगे की जांच के लिए 'चिनूक' से एम्स ऋषिकेश ले जाया गया

उत्तरकाशी के सिलक्यारा में 41 श्रमिकों के सफल रेस्क्यू अभियान को लेकर पूरे देश में हर्ष उल्लास है।...
उत्तरकाशी सुरंग रेस्क्यू: बचाए गए 41 श्रमिकों को आगे की जांच के लिए 'चिनूक' से एम्स ऋषिकेश ले जाया गया

उत्तरकाशी के सिलक्यारा में 41 श्रमिकों के सफल रेस्क्यू अभियान को लेकर पूरे देश में हर्ष उल्लास है। देशवासियों की प्रार्थनाएं मंगलवार शाम को पूरी हुईं। बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सभी श्रमिकों से अस्पताल में भेंट कर उन्हें राहत राशि के चेक भी वितरित किए। इस बीच चिनूक के सहारे सभी श्रमिकों को आगे के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए ऋषिकेश एम्स ले जाया गया है।

भारतीय वायुसेना का परिवहन विमान चिनूक 41 बचाए गए श्रमिकों को लेकर ऋषिकेश पहुंच गया है। एंबुलेंसें भी मौके पर तैनात हैं। इसे श्रमिकों की आगे की चिकित्सा जांच के लिए चिन्यालीसौड़ से एम्स ऋषिकेश भेजा गया है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चिन्यालीसौड़ में सिल्क्यारा सुरंग से बचाए गए श्रमिकों के रिश्तेदारों से बातचीत की। उन्होंने सभी 41 सिल्क्यारा सुरंग श्रमिकों के सुरक्षित बचाव के बाद, उनसे चिन्यालीसौड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचकर मुलाकात की और हालचाल जाना। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सीएम धामी ने सभी श्रमिकों को एक एक लाख रुपए की राहत राशि प्रदान की है। 

सीएम धामी ने कहा, "सभी श्रमिकों की स्वास्थ्य स्थिति की निगरानी की जा रही है। वे सभी अच्छा कर रहे हैं। प्रधानमंत्री, एक माता-पिता की तरह, श्रमिकों के कल्याण के बारे में चिंतित थे। हम भाग्यशाली हैं कि हमें पीएम का नेतृत्व मिला जिसके तहत देश का प्रत्येक व्यक्ति सुरक्षित है। हमने प्रत्येक श्रमिक को उनके द्वारा दिखाए गए साहस के लिए पुरस्कार के रूप में एक राशि दी है। डॉक्टरों की सलाह के अनुसार, सभी श्रमिकों का एम्स ऋषिकेश में स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा।''

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सेना से लेकर रेस्क्यू दलों के सदस्यों का भी आभार व्यक्त किया। इससे पहले, मंगलवार शाम को बचाए गए श्रमिकों को नारंगी गेंदे के फूलों की माला पहनाई गई और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने उनका स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बचावकर्मियों की प्रशंसा की और कहा कि उन्होंने "मानवता और टीम वर्क का उदाहरण" पेश किया है।

पीएम मोदी ने अपने एक्स हैंडल से पोस्ट किया, "उत्तरकाशी में हमारे मजदूर भाइयों के रेस्क्यू ऑपरेशन की सफलता हर किसी को भावुक कर रही है। टनल में फंसे साथियों से मैं कहना चाहता हूं कि आपका साहस और धैर्य हर किसी को प्रेरित कर रहा है। मैं आप सभी के अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं।"

मंगलवार को फंसे हुए 41 श्रमिकों को सुरक्षित निकालने के कुछ घंटों बाद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बचाए गए लोगों से फोन पर बात की।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से