Advertisement

विष्णुदेव साय होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री, विधायक दल की बैठक में लगी मुहर

छत्तीसगढ़ में भाजपा के मुख्यमंत्री चेहरे से आखिरकार पर्दा उठ गया है। विधायक दल की बैठक में विष्णुदेव...
विष्णुदेव साय होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री, विधायक दल की बैठक में लगी मुहर

छत्तीसगढ़ में भाजपा के मुख्यमंत्री चेहरे से आखिरकार पर्दा उठ गया है। विधायक दल की बैठक में विष्णुदेव साय के नाम पर मुहर लग गई है। बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने 90 सदस्यीय विधानसभा में 54 सीटें जीतीं और भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को सत्ता से बेदखल कर दिया। कांग्रेस 2018 में जीती गई 68 सीटों से कम होकर 35 सीटों पर सिमट गई।

सीएम बनने पर विष्णुदेव साय ने कहा, "मैं पूरी ईमानदारी से 'सबका विश्वास' के लिए काम करूंगा और 'मोदी की गारंटी' के तहत छत्तीसगढ़ की जनता से किए गए वादे पूरे करूंगा। हम वादों को पूरा करने का प्रयास करेंगे। पहला काम लोगों को 18 लाख आवास देना होगा।"

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेश बघेल ने भी उन्हें बधाई दी। बघेल ने लिखा, "कुनकुरी विधायक, वरिष्ठ भाजपा नेता विष्णु देव साय को भाजपा विधायक दल का नेता चुने जाने पर बधाई एवं शुभकामनाएँ। नवा छत्तीसगढ़ की न्याय और प्रगति यात्रा को आप मुख्यमंत्री के रूप में आगे बढ़ाएँ, ऐसी कामना करता हूँ।"

छत्तीसगढ़ भाजपा विधायक दल की बैठक पर भाजपा नेता नारायण चंदेल ने कहा, "वे(विष्णुदेव साय) बहुत अच्छे व्यक्ति हैं। हमारे प्रदेश अध्यक्ष हैं। बहुत सहज हैं, सरल हैं, विनम्र हैं और एक ऐसा चेहरा हैं जिसका कोई विरोध नहीं कर पाया। "

केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता रेणुका सिंह सरुता ने कहा, ''मुझे बहुत खुशी है कि विष्णुदेव साय छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बनेंगे। छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार किसी किसान परिवार से आने वाले आदिवासी समुदाय के कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री के रूप में चुना गया है।"

छत्तीसगढ़ भाजपा प्रभारी ओम माथुर ने कहा, "इससे बढ़िया और क्या निर्णय होगा, श्रेष्ठ कार्यकर्ता, अनुभवी कार्यकर्ता, अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रहे कार्यकर्ता को हमने चुना है, इससे अच्छा और क्या हो सकता है।"

बीजेपी नेता ओपी चौधरी ने कहा, ''विष्णु देव साय को सर्वसम्मति से विधानसभा का नेता चुना गया है। हम उनके नेतृत्व में राज्य को आगे ले जाएंगे। हम पार्टी द्वारा तय की गई जिम्मेदारियों को पूरा करते हैं, अपना 100 प्रतिशत देते हुए विष्णुदेव साय के नेतृत्व में हम राज्य को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।"

विष्णुदेव साय को पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह का करीबी माना जाता है। उन्‍होंने अपना राजनीतिक सफर सरपंच से शुरू किया था। साय 1990 से लेकर 1998 तक मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य रहे।

इसके साथ ही साय 1999 में 13वीं लोकसभा के लिए रायगढ़ से निर्वाचित हुए थे। उन्‍हें 2006 में छत्तीसगढ़ में पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था। साय केंद्र में राज्‍य मंत्री भी रह चुके हैं। साय भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति के भी सदस्य रहे हैं। साथ ही उन्‍हें आरएसएस का भी करीबी माना जाता है।

इससे पहले छत्तीसगढ़ में वरिष्ठ नेता रमन सिंह ने रविवार को राज्य में नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक से पहले कहा था कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार में एक उपमुख्यमंत्री हो सकता है। भाजपा विधायक दल की बैठक यहां पार्टी के राज्य मुख्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में चल रही है, जिसमें सभी 54 विधायक मौजूद हैं।

तीन पर्यवेक्षक, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा और सर्बानंद सोनोवाल और पार्टी महासचिव दुष्यंत कुमार गौतम, छत्तीसगढ़ के लिए पार्टी के प्रभारी ओम माथुर, केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया और राज्य के सह-प्रभारी नितिन नबीन के साथ भी मौजूद थे।

बैठक में शामिल होने के लिए अपने आवास से निकलने से पहले पत्रकारों से बात करते हुए रमन सिंह ने कहा कि विधायक दल की बैठक के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि मुख्यमंत्री कौन होगा। हालांकि, जब उनसे पूछा गया कि क्या सीएम पर घोषणा दिन में ही की जाएगी, तो उन्होंने दोहराया था कि "बैठक के बाद सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा"। उन्होंने आगे कहा, "अन्य लोगों के साथ डिप्टी सीएम भी नियुक्त किया जाएगा। कोई मुद्दा नहीं है।"

बता दें कि रविवार सुबह भाजपा के केंद्रीय पर्यवेक्षक सर्बानंद सोनोवाल, दुष्यंत गौतम और अर्जुन मुंडा रायपुर पहुंचे, जहां भाजपा नेताओं द्वारा केंद्रीय पर्यवेक्षकों का पंथी नृत्य,राउत नृत्य से भव्य स्वागत किया गया। गौरतलब है कि अब मध्य प्रदेश और राजस्थान में अगला सीएम कौन होगा, इस पर सस्पेंस बरकरार है। बता दें कि 3 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के नतीजे आए थे। 

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से