Advertisement

भारत-पाकिस्तान के बीच फिर से शुरू होगा व्यापार, कश्मीर से धारा-370 हटने के बाद से था बंद

भारत और पाकिस्तान के बीच दोस्ती पर जमी बर्फ अब फिर से पिघलनी शुरू हो गई हैं। पाकिस्तान इससे एक कदम आगे...
भारत-पाकिस्तान के बीच फिर से शुरू होगा व्यापार, कश्मीर से धारा-370 हटने के बाद से था बंद

भारत और पाकिस्तान के बीच दोस्ती पर जमी बर्फ अब फिर से पिघलनी शुरू हो गई हैं। पाकिस्तान इससे एक कदम आगे बढ़ते हुए भारत के साथ फिर से ट्रेड शुरू करने की बात कही है। इस बात का फैसला पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुवाई वाली कैबिनेट ने बुधवार को लिया है। गौरतलब है कि पाकिस्तान के सुर पिछले कई दिनों से भारत को लेकर बदलते दिखाई दे रहे हैं। पाकिस्तानी अखबार 'डॉन' के मुताबिक पाकिस्तान भारत से 0.5 मिलियन टन शुगर का आयात करेगा। माना जा रहा है कि दोनों देशों के बीच रिश्तों में सुधार को लेकर व्यापार के जरिए ये पहली शुरूआत है।

ये भी पढ़ें- धारा 370 ,सर्जिकल स्ट्राइक, पुलवामा फिर भी सुधर रहे हैं भारत-पाक के रिश्ते, जाने मोदी- इमरान की कौन करा रहा है दोस्ती

वहीं, टाइम्स ऑफ इंडिया ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान ने अपने घरेलू प्राइवेट सेक्टर को अनुमति दे दी है कि वो भारत से सफेद शुगर और कॉटन का आयात करें। पाक पीएम इमरान खान का ये फैसला भारत के प्रधानमंत्री पीएम मोदी को लिखे पत्र के एक दिन बाद हुई कैबिनेट बैठक में आया है। पीएम मोदी को इमरान खान ने पत्र लिख फिर से कश्मीर राग अलापा है। खान ने लिखा है कि स्थिरता के लिए कश्मीर मुद्दों समेत अन्य चीजों का हल जरूरी है।

इससे पहले पीएम मोदी ने भी रिश्तों में गर्माहट लाते हुए बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को पत्र लिख कर पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस की बधाई दी और दोनों देशों के बीच बेहतर संबंध की उम्मीद भी जताई थी। दरअसल, दोनों देश के बीच बीते कुछ महीनों से रिश्तों में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। इसमें महत्वपूर्ण भूमिका मुस्लिम देश संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) निभा रहा है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक बीते महीने 26 फरवरी की बैठक में संयुक्त अरब अमीरात की आधिकारिक रिपोर्ट में विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद ने भारतीय विदेश मंत्री सुब्रह्मण्यम जयशंकर के साथ बातचीत में कुछ संकेत दिए हैं। रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने "सामान्य हित के सभी क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की और विचारों को साझा किया।" 

 

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से