Advertisement
मैगज़ीन डिटेल

झारखंड: आदिवासी वोटों पर निशाना

भाजपा ने संगठन के पदों में फेरबदल करके दूसरी पार्टियों के नेताओं पर भरोसा किया ताकि जनजातीय वोटों में सेंध लगाई जा सके

आवरण कथा/जनादेश ’23: मुद्दे खाली, गारंटी पूरी

कल्याणकारी राज्य को तिलांजलि देने के तीन दशक बाद राजनीतिक दलों तक सिमट चुका कल्याण बना वोट का बायस

आवरण कथा/राजस्थान: चुनावी रण में कल्याण की नीति

पिछले दो दशक की कई कल्याणकारी योजनाओं के स्रोत रहे राजस्थान का वोटर क्या कांग्रेस की सामाजिक सुरक्षा को जिताएगा या फिर से सत्तापलट का रिवाज निभाएगा?

आवरण कथा/छत्तीसगढ़: आश्वासन का शासन

चुनाव जीतने के लिए राजनीतिक दलों का दांव अब काम से ज्यादा आश्वासनों पर टिक गया है, फिर भी दूसरे हथकंडे जारी

आवरण कथा/मध्य प्रदेश: अमानत में खयानत

मतदान सिर पर हैं लेकिन मतदाताओं की खामोशी और बागियों के कारण दोनों दलों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही

आवरण कथा/तेलंगाना: गारंटियों का कांटा

बीआरएस और कांग्रेस ने सियासी होड़ में खोला वादों का पिटारा लेकिन भाजपा के पास घोषणापत्र के नाम पर वोटर से बोलने को कुछ भी नहीं

आवरण कथा/मिजोरम: जातीय अस्मिता पर जोर

एमएनएफ के लिए ग्रेटर मिजो सरकार के मुद्दे, जेडपीएम सुशासन तो कांग्रेस गारंटियों के आसरे

धरोहर/करगिल: एक युद्धग्रस्त चट्टानी गांव की यादें

भारत-पाकिस्तान के बीच 1971 के युद्ध में बंटे और उजड़े रॉक हाउस गांव का अनोखा म्यूजियम, जो अब जलवायु परिवर्तन से पस्त है, पहले छह फुट बर्फ की जगह सिर्फ छह इंच बर्फ जमती है

क्रिकेट: संघर्षों से निखरा जादुई शमी

मौजूदा विश्व कप मैचों में चमत्कारी गेंदबाजी करने वाले शमी गिर कर उठ खड़े होने और छोटी हार के बाद बड़ी जीत हासिल करने की मिसाल

फिल्म/इंटरव्यू/विधु विनोद चोपड़ा: “अगले काम के बारे में कभी नहीं सोचता”

एडिटिंग मुझे सबसे ज्यादा पसंद है। यह काम मुझे बहुत सुकून देता है।

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की हलचल

इजरायल-हमास युद्ध/नजरिया: एक ही सिक्के के दो पहलू

शांति बहाली और समाधान के रास्ते की पहली शर्त यह है कि दोनों तरफ के अतिवादियों की खुलकर आलोचना की जाए

इजरायल-हमास युद्ध: तबाही अभी बाकी है

गाजा में इजरायली हमले की तबाही भयावह मगर दो हिस्सों में बंटी दुनिया से अनिश्चित भविष्य की आशंका

इजरायल-फलस्तीन युद्ध: हर कोई चाहे जंग

इजरायल-हमास युद्ध में नागरिकों की जान की परवाह से ज्यादा हर देश को अपने नफा-नुकसान की चिंता

रंगमंच: कला का विरला सिपाही

आजादी के सिपाही और साहित्य की हर विधा, खासकर रंगकर्म में महत्वपूर्ण काम करने वाले वीरेंद्र नारायण का यह जन्मशती वर्ष है

स्वर स्मृति/कुमार गंधर्व: संगीत के गंधर्व

भारतीय शास्त्रीय संगीत के अमर गायक कुमार गंधर्व का यह साल जन्मशताब्दी वर्ष है

प्रथम दृष्टि: मेरा ही हीरो महान

किसी चर्चित शख्सियत की महानता का निष्पक्ष मूल्यांकन समय की कसौटी पर ही किया जा सकता है।

संपादक के नाम पत्र

भारत भर से आई पाठको की चिट्ठियां

शहरनामा/सोनपुर

पौराणिक हरिहर नाथ मंदिर और कालीघाट की ऐतिहासिकता